Chodan story | Makan malkin ki antarvasna

मेरा नाम मोहन है, मैं मैं अपने परिवार के साथ एक छोटा सा गांव में रहता हूं. यहां सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था कि मेरा एग्जाम का रिजल्ट आ गया. मेरा रिजल्ट कुछ अच्छा नहीं था तो मैंने भी बहाना डाल दिया कि टीचर अच्छा नहीं मिला. वैसे भी सब जानते थे कि मैं पढ़ने में थोड़ा कमजोर हूं. आप padh रहे हैं मकान मालकिन के साथ chodan story, kamukkissa पर. आगे की पढ़ाई करने के लिए मुझे मेरे पापा ने भेज दिया. मैं जब छत्तीसगढ़ गया तुम मुझे मेरे गांव के कुछ जान पहचान ने एक रूम दिलवा दिया, कॉलेज में एडमिशन भी करवा दिया, सब कुछ आसान था.

तो दोस्तों इस कहानी में मकान मालकिन के साथ सेक्स की कहानी को बतलाया गया है . मैं अक्सर कॉलेज से आता और खाना खाता, फिर सो जाता. जिंदगी कुछ इसी पैटर्न में चल रहा था. मैं रूम पर अक्सर अकेला ही होता था, और खाली टाइम पर पॉर्न वीडियो देखा करता था. मैं उत्तेजित हो जाता था और फिर नियंत्रण कर भी लेता था. कभी कबार मुट्ठ मार लिया करता था.Makan Malkin ki chodan story aap kamukkissa par padh rahe hain. मकान मालकिन के साथ सेक्स मैं एक नया मोड़ तब आया जब एक दिन उसे मैंने नहाते हुए देखा.

मेरे मकान मालिक का मार्केट में कपड़ा का दुकान है तो वहां अक्सर वह बिजी रहता था. उनका एक छोटा सा लड़का था जो अक्सर स्कूल में रहता था, कभी-कभार मैं उसी स्कूल से लाता भी था. एक दिन मैं कॉलेज से आकर कमरा का भाड़ा देने के लिए ऊपर उनके रूम के पास गया. मुझे वहां हलचल नजर नहीं आया तो फिर मैं दीदी दीदी कह कर उन्हें ढूंढने लगा. कोई प्रतिक्रिया भरी आवाज नहीं आई फिर मुझे बाथरूम की तरफ से पानी के गिरने का आवाज सुनाई दीया. मैं उस तरफ बढ़ा बाथरूम का दरवाजा ठीक तरीके से लगा हुआ नहीं था, कुछ दूर बाहर से ही मुझे अंदर का सारा नजारा दिख गया.Makan Malkin ki chodan story aap kamukkissa par padh rahe hain.

क्या जबरदस्त बदन थी, वो मीडियम साइज के बूब्स, चौड़ी सीना, पतली कमर, उभरी हुई चूतड़. उसका पेट बहुत ही ज्यादा सेक्सी था, नाभि उसका पेट का खूबसूरती बता रहा था. अंदर तन बदन में आग लग गया मेरा लंड हो गया। मन तो कर रहा था कि वही मुट्ठ मार दूं। दीदी को आंटी भी कहा करके बुला लिया करता था लेकिन थी वह मेरे सेक्सी मकान मालकिन। जब तक में वो बाहर आने लगी मैं तुरंत जाकर दरवाजे के पास वाले कुर्सी में बैठ गया।
वो टॉवल में अपनी आधा नंगी बदन को छुपाते हुए बाहर आई। जबरदस्त की खतरनाक लग रही थी।
आंटी बोली- अरे बड़े स्पीड में स्थान ग्रहण कर लिए. मिल गई आंखों को ठंडक.
मैं समझ गया कि उन्हें सब कुछ पता चल गया।
मैं- सॉरी आंटी भूल हो गई ।
फिर वह मेरे हाथ से पैसे ली और बोली ऐसा भूल करना चाहिए। कब करोगे यह भूल, मैं तैयार रहूंगी। उनका नजर मेरे खड़े लण्ड में था।

आंटी मुझसे प्रभावित थी, सायद वो भी इस भरेदार से चुदवाना चाहती थी। मैं हिचकिचाते हुए बोला- किया आभी कर सकते है ये भूल? वो बोली- अभी नही तुम्हारे अंकल लंच करने आएंगे। मैं- ठीक है आंटी फिर कभी। और मैं जाने लगा। आंटी- तुम्हारे अंकल के आने में आधे घंटे लगेंगे । फिर वो आंख मारी और मसकुरा दी। मकान मालकिन बहुत खूबसूरत थी भीगी बदन में बहुत ज्यादा हॉट लग रही थी।

मैं उनके तरफ बढ़ा और टॉवल को खींच दिया , पल भर में वो नंगी मेरे सामने थी। उनकी उम्र 35 की रही होगी , उनके स्तन में बूब्स बहुत टाइट था। इस से मेरे अंदर अन्तर्वासना और भी भड़क गया। मैं उसके करीब गया और अपने तरफ खिंचा। उन्हें अपने सिने सके चिपका लिया। मेरा लण्ड बहुत कड़क हो गया। उनहे मेरा कड़क लण्ड महसूस हो गया।Makan Malkin ki chodan story aap kamukkissa par padh rahe hain.

हम अन्तर्वासना के वस में थे और एक दूसरे के होंटो के चूसने लगे। वो मेरा कपड़ा उतारने लगी। मैं- आप बहूत ज्यादा सेक्सी और हॉट है। आपको चोदने का सपना मेरा पुराना है। आंटी – मोहन मैं तुमसे तो पहले दिन से ही प्रभावित हूँ। अब और देर न करो बस मेरी आनतर्वसना को शांत कर दो।

बस और किया था, देखते देखते वो मुझे भी नंगा कर चुकी थी। हम एक दुसरे को पकर के बिस्तर पर आ गिरे। मै उनके बुब्स को मसलने लगा। वो आहे भर रही थी। आहहहह हम्म्म्म आ आ आ हम्म और जोड़ जोड़ से सांस ले रही थी। वो अपनी कोमल हाथ मेरे सीने मे फेर रही थी, जिससे मेरे अंदर उत्तेजनाओं का संचालन होने लगा। मेरा लण्ड बहुत शक्त हो गया।Makan Malkin ki chodan story aap kamukkissa par padh rahe hain.

फिर मैं उसके पैरो को फैला कर चुत चाटने लगा। वो और भी उत्तेजित होने लगी। मुझे बहुत नमकीन लग राहा था। फिर भी मैं चाटते रहा। कुछ देर में वो मेरा सीर को अपनी चुत में दबाने लगी। उन्हें मेरे द्वारा चुत चटवाने में चरम आनंद मिल रहा था। कुछ देर बाद वो बोली की अब चोद दो, नियंत्रण नही हो रही है।

मैं भी अपना गरम हथौड़ा उनके चुत में डाल दिया। वो एहसास बहुत खास था। आंटी की चूत तो पहले से ही मैंने चाट चाट कर गिला कर दिया था, जिससे मेरा लण्ड सरसराते हुए अंदर चला गया। अंदर की गर्मी का एहसास के कारण मेरा उत्तेजना और तेज़ हो गया। मै अपना पूरा लण्ड आंटी की चूत में समा दिया। वो मुझे जोर से पकड़ ली। मैं धीरे धीरे झटका देना चालू किया और आंटी इसका मजा लेने लगी।Makan Malkin ki chodan story aap kamukkissa par padh rahe hain.

आंटी कराहने जैसी सेक्सी आवाज निकाल रही थी ओर मैं घचा घच चोदता रहा। आंटी की मुह से और जोर जोर से आवाज आ रही थी। आह aaah ह्म्म्म आआ अअअअअ एस हम्मम आ there यस ह्म्म्म ओर और और और और भी। आंटी की आवाजें मुझे बहूत ज्यादा उत्तेजित कर रही थी। मैं और जोर जोर से झटका देकर चोदने लगा। वो भी अपनी कमर को उछाल उछाल कर खूब चुद रही थी। लाजवाब की माल थी वो। हम दोनों पसीने से तर बतर हो चुके थे।

14 मिनट तक खूब खूब चोदने के बाद मैं अस्खलित हने वाला था। तुरंत मैं अपना लण्ड बाहर निकला और उनकी पेट मे वीर्य की धार छोर दिया। और फिर मैं उनके ऊपर ही ढेर हो गया।Makan Malkin ki chodan story aap kamukkissa par padh rahe hain.

हम दोनों मुस्कुराने लगे और एक दूसरे को हार्ड किश केये। वो फिर नहाने चली गयी और मैं कपड़े पहन कर नीचे अपने कमरे पर चला गया। कमुकिस्सा में आपको ये कहानी अच्छी लगी हो तो हमे जरूर ट्विटर, टेलीग्राम में join करें।

Aap hamar anya story ko bhi padhen: Ajnabi didi ki chudai Train me,

Sending
User Review
0 (0 votes)

7 Comments

  1. Ranjan October 19, 2019
  2. Sonu February 4, 2020
  3. Rahul Raj February 10, 2020
  4. Sonu February 17, 2020
  5. Sonu February 17, 2020
  6. Shashankkatiyar February 20, 2020
  7. Manuj mangla March 6, 2020

Leave a Reply