Sex with teacher Rima Madam Ki Chudai

Sex with teacher

दोस्तो यह कहानी भेजा गया है ललन जी के द्वारा । पता को गोपनीय रखते हुए कहानी को आगे बढ़ाया जा रहा है। ललन एक छोटे सहर मे रहता है और वही एक अंग्रेजी मीडियम स्कूल है वो उसी मे पढ़ता है। ललन के पड़ोस मे एक शिक्षिका रहती थी जो पेंटिंग एवं चित्रकारी की बेहतरीन शिक्षिका थी। ललन 12 क्लास मे पढ़ता था और उसी स्कूल मे मैडम सारिका पढ़ाती थी।(sex with teacher – kamuk kissa a collection of hindi sex story )

असल में सारिका मैडम की असली नाम रीमा है जो उसके घर में उसकी पति इस नाम से बुलाते है. रीमा मैडम का पति का मॉल मे जॉब है इसलिए वो घर मे बहुत कम ही रहता है।

ललन को चित्रकारी सिखने का बहुत ललक था लेकिन इसके लिए सही गुरु होना जरूरी है. ललन एक रोज मैडम रीमा के पास गया की उसे वो चित्रकारी सिखाये . मैडम में ललन को अंदर बिठाया और कॉफ़ी भी पिलाई लेकिन टूशन के लिए ये कह कर मना कर दी कि वो सिर्फ बच्चो को पढ़ाती है. ललन ने जिद किया और मैडम को टूशन के लिए मना लिया .\nसन्डे का दिन था आज ललन बहुत दिल लगा कर चित्रकारी सिख रहा था कि उतने में मैडम ने उसकी बनायीं तस्वीर देखि और मैडम ख़ुशी से फुले न समायी . अब मैडम ने मन में निश्चय किआ की ललन को मन लगा कर सिखाएगी और बेहतरीन शिक्षा देगी. अब मैडम आये दिन ललन को नए नए तरीका और ट्रिक से पेंटिंग करना सीखने लगी . एक दिन मैडम ने ललन को नंगी लड़की की तस्वीर बनाने को बोली लेकिन ललन इसमें फ़ैल हो गया. मैडम समझ गयी कि ललन को लड़की कि तस्वीर बनाने नहीं आती फिर मैडम ने ललन को नंगी तस्वीर बनाने की ज्ञान देने लगी।

दो महीने बीत गए अब ललन ठीक थाक पेंटिंग करने लगा। एक दिन उसके शहर मे चित्रकारी की बहुत बड़ी प्रतियोगिता हुई और इस प्रतियोगिता मे ललन ने भी भाग लिया । प्रतियोगिता का विषय था की एक नग्न स्त्री का फोटो बनाना। ललन ने भी बनाया लेकिन वहां ललन से भी अच्छे तस्वीर बनाने वाले लोग थे। रीमा मैडम को लगा की उसकी मेहनत मे कमी रह गयी।

एक दिन रीमा मैडम के घर कुछ मेहमान बाते कर रहे थे और वही बगल मे ललन चित्रकारी की अभ्यास कर रहा था। कुछ देर बाद वो लोग वहां से चले गए। ललन ने हु बहु उनलोगो की बाते करते हुए तस्वीर बना दिया था। रीमा मैडम ये देख के बहुत खुश हुई।

रीमा मैडम ने ललन से कहा की वो खुद कम कपड़े मे सामने बैठी रहेगी और ललन उसे देख कर उसकी तस्वीर बनाये। ललन थोड़ा हिच किचिया और फिर हामी भर दिया। कुछ देर बाद वहाँ मैडम आई सिर्फ ब्रा पहनी हुई थी और नीचे आधी सारी लपेटी हुई थी और आधी सारी जमीन मे गिरी पड़ी थी पूरे कपड़े और बदन पानी से भीगाई हुई थी। ब्र के अंदर का भुरी रंग की निप्प्ले तो ऐसे ही दिख रही थी। जाँघो मे चिपकी हुई कपड़े देख कर किसी का भी लण्ड खड़ा हो जाये। ललन का भी लण्ड 6 इंच खरा हो गया था लेकिन वो इस बात को जाहिर नही होने दिया।

ललन ने मैडम रीमा की तस्वीर बनाना आरम्भ कर दिया। आधी तस्वीर पूर्ण हुई ही थी कि ललन का लण्ड बहुत कड़क हो गया और ललन अपने चित्रकारी मे ध्यान नही दे पा रहा था। रीमा मैडम परिस्थिति को समझ गयी थी और वो ललन के तरफ हिचकिचाते हुए बोली – अगर मै तुम्हे ब्लो जॉब ( blow job – लण्ड को चूसना ) दु तो क्या तुम काम मे फोकस कर पाओगे?

ललन- (शर्म से हिचकिचाते कुए) सायद ये अच्छा रहेगा।

मैडम को देख के ललन के मन मे पहले से ही वासना की अग्नि धधक रहा था। मैडम की उठी हुई 38 की बूब्स, 28 की कमर, 36 की गांड किसी बूढ़े आदमी का भी लण्ड से पानी निकालने के लिए काफी थी। ललन तो अभी अभी जवान हुआ है फिर उसका क्या हालत हुआ होगा वो भीगी हुई कामुक बदन को देख के।

रीमा मैडम ललन के पास जाके उसका जींस का हूक खोलने लगी। लण्ड शक्त होने के कारण जींस खोंलने मे कठिनाई हुई लेकिन खुल गयी , फिर अंडरवेअर भी उतार दी। मैडम ने जिव्हा की नोकि से लण्ड की टोपी को सहलाने लगी, लण्ड की सुपौरा मे जो पेसाब छिद्र होती है उस से फिसलन वाली पानी भी निकल रही थी तो थोड़ी नमकीन थी। रीमा मैडम को ललन की लण्ड पसंद आगयी। वो उसे जिव्हा से चाटने लगी और कुछ देर चाटने के बाद उसके लण्ड को आइस गोला के तरह चूसने लगी और फिर कभी लोलि पॉप के तरह चुस्ती। कुछ देर और चूसने के बाद लण्ड को अपने कंठ तक अंदर बाहर करने लगी। मैडम की जांघे दिख रही थी और बूब्स हिलोरे ले रही थी। ललन को ऐसा लग रहा था जैसे कि वो चुदाई का मजा ले रहा हो।

ललन- मैडम मुझे तो पाप लगेगा क्यों की बहुत बुरा काम कर रहा हूँ वो भी अपने गुरु के साथ।

मैडम – डोंट वोरी ! ये तुम्हारा कॉन्सनट्रेशन के लिए जरूरी है। इस से तुम बहुत फ्रेश महसूस करोगे।

मैडम की अंदर की जवानी मे अब अग्नि तेज होने लगी। मुह मे लण्ड को इतना ज्यादा जोर जोर से चूसने लगी और अंदर बाहर करने लगी कि ललन उसके मुह मे ही अस्खलित हो गया। मुह मे उजला रंग का द्रव्य भर चुका था बिल कुल नमकीन।

ललन- सॉरी मैडम! मैं कंट्रोल नही कर पाया काश मैं आपके चूत मे वीर्य निकाला होता।

रीमा- क्या हुआ तो, अभी तो बहुत समय है हमारे पास किया तुमसे मेरे चूत मे नही हो पायेगा?

ललन सुनते हि खुश हो गया और ललन भी जमीन पर घुटने के बल बैठ गया और मैडम की होंटो को चूसने लगा। वो एक दूसरे के होंटो को लगभग एक मिनट तक चूसते रहे। फिर अचानक ऐसा क्या एहसास हुआ होगा उनलोगो को कि वो एक दूसरे को अपने सीने से जाकर लिया और कुछ देर तक यु ही एक दूसरे के पीठ को सहलाता और गर्दन को चूमता रहा।

थोड़ी देर बाद वो एक दूसरे को पूरी तरह नंगा कर दिया। मोटी जांघो के बीच वो गुलाब जैसी चूत इतनी लुभा रही थी कि मानो जिंदगी इसी मे गुजार दिया जाय। उसमे हल्की हल्की बाल भी थी जो अति मनमोहक लग रही थी।

मैडम को ललन ने हाथ पकड़ कर सोफे मे लेटाया और ज्यो ही बूर मे उंगली डाला तो महसूस हुआ कि वो पूरी तरह से चिप चिपी और गीली थी। हाथ बूर मे पड़ते ही मैडम के सरीर मे सिहरन दौर गया जिसे मानो की कर्रेंट लग गया हो। ललन ने मैडम की चूत मे उंगली से चुदाई करने लगा और मैडम धीरे धीरे तड़पने लगी। जब मैडम बहुत ज्यादा ही तड़पने लगा तो मैडम ने जबरदस्ती बए हाथ से ललन के सिर के बाल को खिच के अपने ऊपर लाइ और दाहिने हाथ से लण्ड को पकड़ कर अपने बूर मे टिका दि।

मैडम- अब अंदर ठेलो।

ललन ने अंदर ठेलना सुरु किया, मैडम की बूर इतनी गीली हुई पड़ी थी की लण्ड सरसराते हुए अंदर चला गया। मैडम ने ललन को अपने पैरो मे बांध लिया, और फिर चुदाई की नदी मे गोते लगाने लगी। वो एक दोसरे को चुदाई का असीम सुख प्रदान कर रहे थे। वहां अलग अलग तरह के आवाजे आ रही थी।

खच खच खच थाप थप थप थप घच चच घच…..

अह अह अह अआह आआअह उम उम्म उह्ह्ह्ह हाए चोदो चोदो और चोदो … मेरे प्यारे ललन आज मैं तुम्हारी..

अहह ऐर और और…. आह आह आह आह एस यस यस ऐसे ही वऊ

उसकी चुदाई की सफर लंबे समय तक चलता रहा। ललन चुदाई की गति को बिना धिमा किये मैडम की बड़े बड़े मम्मे को चूसता तो कभी मसलता तो कभी चूसता। उसकी निप्पल को दांतो से हल्के हल्के कुतरता इस से मैडम की उत्तेजना और बढ़ जाती थी और आवाजे ज्यादा तेज हो जाती।

आअह्हह्हह्हह आह आह आह आह रुकना मत please चोदो आह आह ऐसी चुदाई मेरी पहले कभी नही हुई।

और मैडम अपने गांड को उछालने लगी चुदाई होते रहा मैडम तड़पने लगी, अंदर बूर लण्ड को जकरने लगी ऐसा लग रहा था की चूत टाइट हो रही थी फिर….. मैडम की चूत से फवारा छूटने लगी साथ के साथ ललन का भी वीर्य निकल गया। वो एक दूसरे के सीने मे सम गया।

वो एक दुसरे के सरीर से 20 मिनट तक खेला और एक दूसरे को चूमता रहा।

बाद मे मैडम बोली- तुम इस बात का कही भी जिक्र नही करना और हम इसे आगे नही करेंगे। तुम मुझे बहुत खुश किये हो, मैं तुम्हे चाहती भी हूँ लेकिन तुम बहुत छोटे हो किसी को पता चलेगा तो बदनामी होगी। और ऊपर से मैं सादी सुदा भी हूँ मेरी सदी सुदा जिंदगी खराब हो सकती है। ऐसी संभोग मे मुझे कोई नही दे सकता , मैं इसे जिंदगी भर याद रखूंगी। सच्चाई तो ये है की मैं तुम्हारा गुरु हूँ और तुम प्रिय छात्र, हमे इसे बरकरार रखनी है।

मैडम ने अच्छी तरह से ललन को समझ दी। और उनका आगे का जिंदगी सरल तरीके और आदर के साथ चलने लगा।

आपको यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट जरूर करें, साथ ही इसे  शेयर करें। कामुक किस्सा – हिन्दी चुदाई कहानी की संग्रह है।Aap Hamare site ko Twitter me bhi follow karen.

Also Read: Sikshika ke sath chudai kia, Didi ko chodne ka majaMaa ne bete ka kamar dard ka ilaj chudai karke ki

Sending
User Review
5 (1 vote)

3 Comments

  1. SUDESH KUMAR October 25, 2019
    • Mani December 25, 2019
  2. Mani December 25, 2019

Leave a Reply